तिहरा हत्या कांड: चौकी प्रभारी सहित चार पुलिस कर्मी लाइन हाजिर,दस आरोपी गिरफ्तार..(रिपोर्ट-विनोद मिश्रा)

तिहरा हत्या कांड: चौकी प्रभारी सहित चार पुलिस कर्मी लाइन हाजिर,दस आरोपी गिरफ्तार..(रिपोर्ट-विनोद मिश्रा)

Share

 

तिहरा हत्या कांड: चौकी प्रभारी सहित चार पुलिस कर्मी लाइन हाजिर,दस आरोपी गिरफ्तार

(संवाददाता-विनोद मिश्रा)
बांदा। शहर कोतवाली के चमारौ डी मोहल्ले में कालूकुंवा पुलिस चौकी प्रभारी सहित जहां चार पुलिस कर्मियों को लाइन हाजिर कर दिया गया हैं वहीं सिपाही व उसकी बहन और मां की सामूहिक हत्या के 10 आरोपियों को पुलिस ने 43 घंटे बाद गिरफ्तार कर लिया। इनमें चार महिलाएं भी हैं। अभी भी इस जघन्य नरसंहार के मास्टर माइंड आरोपी सहित 5 अभियुक्त फरार हैं। इनमें एक महिला है। सोमवार को गिरफ्तार सभी अभियुक्तों को अदालत में पेश करने के बाद जेल भेज दिया गया।
आपको बता चुकें हैं की यह लोमहर्षक हत्याकांड शुक्रवार की रात शहर के परशुराम तालाब चमरौडी मोहल्ले में पुलिस कांस्टेबल अभिजीत वर्मा उर्फ गोल्डी और उसकी बहन निशा और मां रमा देवी की पड़ोसी चचेरे भाइयों और उनके ससुराल वालों आदि ने मिलकर कुल्हाड़ी, डंडा आदि से सामूहिक हत्या कर दी थी।
कांस्टेबल और उसकी बहन अविवाहित थे। घटना की पृष्ठभूमि में पुराना जमीनी विवाद और उसी दिन जूठन फेंकने को लेकर हुआ झगड़ा बताया गया । मृतक सिपाही के भाई सौरभ वर्मा ने तीन चचेरे भाइयों सहित कुल 15 लोगों की नामजद और दो अज्ञात के विरुद्ध हत्या सहित कई संगीन धाराओं की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इनमें 5 महिलाएं भी हैं। घटना के बाद से ही पुलिस अभियुक्तों की धरपकड़ में जुट गई थी। ज्यादातर अभियुक्त गिरफ्तार हो गए थे। लेकिन पुलिस ने पुष्टि नहीं की थी। सोमवार को कोतवाली पुलिस ने सामूहिक हत्याकांड के 10 आरोपियों को यहां सीजेएम अदालत में कड़ी सुरक्षा व्यवस्था में पेश किया।
यहां से उन्हें जेल भेज दिया गया। इनमें चार महिलाएं भी हैं। कोतवाली प्रभारी निरीक्षक दिनेश सिंह ने बताया कि इन सभी को सर्विलांस की मदद से रविवार को शाम डिंगवाही और पल्हरी गांवों से गिरफ्तार किया गया है। उधर, फरार अभियुक्तों की गिरफ्तारी के लिए कोतवाली पुलिस की कई टीमों के अलावा एसओजी और क्राइम ब्रांच को भी लगाया गया है।
सामूहिक हत्या के गिरफ्तार आरोपियो में
देवराज,शिवपूजन, सुरेश उर्फ बबलू पुत्रगण भगवानदीन . धर्मवीर पुत्र शिवराज (मृतक के चचेरे भाई देवराज का साला), कामता पुत्र सुखदेव, रोहित पुत्र सुखदेव (देवराज के ससुराली), रज्जो पत्नी देवराज (मृतक की भाभी), धर्मवती पत्नी शिवपूजन (मृतक की भाभी), शकुंतला पत्नी सोमचंद्र (देवराज की ससुराली), मछला पत्नी शिवराम (देवराज की सास)। यह सभी मृतक कांस्टेबल के पड़ोसी हैं।
सोमचंद्र पुत्र शिवराज (मृतक का रिश्ते में साला), 2. धर्मेंद्र (शिवराज का पुत्र), 3. राज उर्फ गोपी पुत्र देवराज (मृतक का भतीजा), 4. सूरज पुत्र रामशरण, 5. शिववती पत्नी धर्मेंद्र (सभी मृतक के पड़ोसी) व 2 अज्ञात फरार हैं।
पुलिस जवान समेत ट्रिपल मर्डर के चर्चित घटना में नजदीक स्थित कालूकुआं चौकी पुलिस आरोपों के घेरे में है। मृतक कांस्टेबल के भाई सौरभ ने इसका जिक्र दर्ज हुई एफआईआर में किया है।
कहा है कि उसका भाई अभिजीत (मृतक) घटना वाले दिन आरोपियों के खिलाफ तहरीर लेकर कालूकुआं पुलिस चौकी गया था। लेकिन चौकी के दीवान राजा सिंह ने उसे डांटकर भगा दिया था।पुलिस अधीक्षक डा.एसएस मीणा ने फिलहाल चौकी प्रभारी राजेश मिश्रा, दीवान राजा सिंह और कांस्टेबल राहुल व आशुतोष को चौकी से हटाकर लाइन हाजिर कर दिया है। पुलिस अधीक्षक ने बताया कि सीओ सदर जांच कर रहे हैं। जांच रिपोर्ट आने पर अगली कार्रवाई की जाएगी।

Featured Main अन्य बड़ी ख़बरें उत्तर प्रदेश बड़ी ख़बरें बाँदा