महोबा डीएम ने पर्यटन व पुरात्तव की बैठक में दर्शनीय स्थलों को संवारने पर दिया जोर..(रिपोर्ट:सीतापाल)

Share

0-ऐतिहासिक धरोहरो के सुंदरीकरण कार्य को नववर्ष से पहले पूर्ण कराना सुनिश्चित करें: डीएम
0- जिलाधिकारी ने पुरातत्व एंव पर्यटन विभाग के कार्यो की समीक्षा

(रिपोर्ट-सीतापाल)
महोबा। कलेक्ट्रेट सभागार में जिला मजिस्ट्रेट सत्येंद्र कुमार ने पुरातत्व एवं पर्यटन विभाग के कार्यों की समीक्षा की।
समीक्षा के दौरान जिला मजिस्ट्रेट ने क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी शक्ति सिंह को निर्देशित करते हुए कहा कि जनपद में जितने भी दर्शनीय स्थल हैं उनको डेवेलप करने के लिए विस्तृत डीपीआर तैयार किया जाए। उन्होंने क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी को इस बावत भी निर्देशित किया कि वर्तमान में कीरत सागर, मदन सागर तथा रावतपुरा तालाब व मंदिर में किये जा रहे सुंदरीकरण कार्य को नववर्ष से पहले पूर्ण कराना सुनिश्चित करें।
बतादें कि जिले में उक्त के अतिरिक्त बड़ी चन्द्रिका महोबा, मंदिर, छोटी चन्द्रिका मंदिर महोबा, रामकुण्ड धाम मंदिर महोबा, ताला सैय्यद चोटी महोबा, गोवर्धन मंदिर चरखारी, कोठी तालाब, जय सागर व मलखान सागर चरखारी तथा गुमान बिहारी मंदिर चरखारी आदि को पर्यटन के लिहाज से विकसित करने हेतु डीपीआर भेजा गया है। डीएम ने बताया कि मदन सागर में बोट क्लब बनाया जाएगा तथा नेहरू पार्क को आकर्षक बनाया जाएगा ताकि पर्यटकों का ध्यान आकृष्ट किया जा सके। उन्होंने क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी को इस आशय से भी निर्देशित किया कि कीरत सागर के प्रवेश द्वार पर दुकानों का अतिक्रमण हटाते हुए अति आकर्षक बनाया जाए और सभी दर्शनीय स्थलों पर आवश्यक सुविधाएं उपलब्ध करायी जाएं।
उक्त के अतिरिक्त बैठक में डीएम ने सीगौन, जैतपुर, अकौना, रावतपुरा खुर्द, सालट, नरेडी, स्वासामाफ, सूपा, बिहारी कुरारा डांग, भरवारा, काशीपुरा, श्रीनगर, राहेलिया, उरवारा, रैवारा, मकरबई आदि के प्रधानों से जनपद के अन्य दर्शनीय स्थलों की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा जल्द ही भारतीय पुरातत्व विभाग और उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग की टीमें इन दर्शनीय स्थानों का भ्रमण करेंगीं और अपनी रिपोर्ट तैयार करेंगीं। उन्होंने कहा महोबा के विकास हेतु पर्यटन ही एक मात्र उपाय है और इसे पूरा करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि जनपद को चित्रकूट- कालिंजर- खजुराहो- महोबा- ओरछा के पर्यटन सर्किट से जोड़ने का प्लान तैयार किया जा रहा है जल्द ही इसे अमलीजामा पहनाया जाएगा। इस अवसर पर जिला मजिस्ट्रेट ने सभी एसडीएम, बीडीओ व ईओ को निर्देशित किया कि जिले में जो भी दर्शनीय स्थल हैं उनकी पैमाइश कराते हुए अतिशीघ्र अतिक्रमण से मुक्त कराया जाए और साफ-सफाई के पर्याप्त इंतजाम कराये जाएं। उन्होंने कहा कि शहर के तालाबों के किनारे पाम के वृक्ष लगाए जाएं और नगर पालिका महोबा अभियान चलाकर तालाबों की जलकुम्भी को साफ कराये। इस मौके पर उन्होंने कहा कि जिले में जो भी प्राचीन एवं ऐतिहासिक स्थल हैं उनको बचाने का हर सम्भव प्रयास किया जाएगा।
बैठक में सीडीओ आरएस गौतम, क्षेत्रीय पर्यटन अधिकारी शक्ति सिंह, भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के जेसीए इरशाद अहमद, बीडीओ कबरई विनीत कुमार, बीडीओ जैतपुर प्रशांत कुमार, सूचना अधिकारी सतीश यादव, संरक्षण सहायक एएसआई अभिषेक सहित ग्राम पंचायत चमरुआ के प्रधान राम कृपाल सिंह, सीगौन के प्रधान गजेश राजपूत, ग्राम लुहारी के प्रधान लखनलाल नायक, ग्राम सालट के प्रधान बृज गोपाल, भरवारा के प्रधान हीरा लाल आदि मौजूद रहे।

 

बैठक में निर्देश देते डीएम
पर्यटन विभाग के साथ बैठक करते डीएम
Featured Main अन्य बड़ी ख़बरें उत्तर प्रदेश बड़ी ख़बरें बुंदेलखंड महोबा महोबा लोकल न्यूज़ महोबाTIMES