June 18, 2019
  • 7:02 pm 않을 것입니다.당신은 순진하지 않을 것입니다.또한 강사와
  • 5:29 pm 가진 사람들에 대한 고용주 수요 증가로 내년에
  • 1:34 pm 설정 (예 : 언어 및 사용 가능한
  • 12:03 pm 와 관련된 물건을 찾는 것이 더 어렵습니다
  • 6:08 pm 당신이 느끼고 싶어하는 것을 정

फ़िल्म शिक्षा से मिली नई ऊर्जा,निराशा से उत्साह की ओर ले गई फिल्म शिक्षा- अभिनेता शकील खान

{रिपोर्ट-आकांक्षा शुक्ला}
UP STAR NEWS (17 सितंबर 2018)महोबा! बुंदेलखंड में एएमबी फिल्म प्रोडक्शन हाउस द्वारा निर्मित फिल्म शिक्षा बहुत जल्द दर्शकों के बीच आने वाली है ! इस फिल्म की सूटिंग बुंदेलखंड के क्षेत्रो में पूरी की गई है ! महोबा के निवासी अंश कश्यप द्वारा फिल्म का निर्देशन किया जा रहा है ! फिल्म लगभग बनकर तैयार है! इस फिल्म मे अभिनय कर रहे अभिनेता शकील खान फिल्म को लेकर काफी उत्साहित है ! सामाजिक फिल्म शिक्षा के आलावा कई फिल्मों में अभिनय कर चुके अभिनेता शकील खान से खास बातचीत की यूपी स्टार संवाददाता संवाददाता आकांक्षा शुक्ला ने- अभिनेता शकील से बातचीत के कुछ अंश….. 
 
सवाल- शकील जी आप का फिल्मी सफर कैसा रहा ?
जवाब- मेरा फिल्मी सफर जो कि बहुत ही कठिन  परिस्थितियों से गुजरा ,सफलता और  असफलता के इस सफ़र में बहुत सारी रुकावटों का सामना करना पड़ा ,खराब वक्त और हालात के चलते समय की इस परीक्षा में बहुत से मोड़ देखने को मिले। एक समय था जब कुछ रुपए बचाने के चक्कर में कई किलोमीटर का सफर पैदल भी तय किया धर्मशालाओं में रातें गुजारी, दोस्तों रिश्तेदारों से पैसे और कपड़े मांग कर इस सफर को तय करते रहे, मुकाम दूर था मगर कठिन नहीं फिल्मी सफर के दौरान हमारे अपने ही हमारा मजाक बनाने लगे ,धीरे-धीरे से मजाक छीटाकशी में बदल गया।समय गुजरता गया और हमें इन सब की आदत सी पड़ गई, समय गुजरता गया  दिन निकलते गए और साथ ही हमारे जीवन का फिल्मी सफर आगे बढ़ता रहा, सभी लोग खफा से हो गए और एक समय ऐसा आया जब मैं निराश सा हो गया था ।
 
सवाल-2  अपने जीवन के संघर्षों के बारे में कुछ बताइए ?
जवाब-  निराश और खामोश जिंदगी ने एक ऐसे मोड़ पर खड़ा कर दिया था ना तो हम पीछे जा सकते थे और ना ही आगे बढ़ने की हिम्मत थी, मगर जिंदगी ने एक ऐसा मौका दिया जिससे हमारी जिंदगी में फिर से प्रकाश की किरण नजर आई और ए एम बी फिल्म प्रोडक्शन हाउस बैनर तले बन रही फिल्म शिक्षा जिसका निर्देशन कर रहे अंश कश्यप जी ने इस फिल्म में मुझे अहम भूमिका दी ,यह फिल्म एक सामाजिक जीवन पर दर्शाई गई है।
 
 
सवाल 3. आपके जीवन में  ए एम बी फिल्म प्रोडक्शन का क्या योगदान है ?
जवाब- ए एम बी फिल्म प्रोडक्शन हाउस मेरे जीवन में एक आशा की किरण लेके आया है ,जैसे मरते हुए को जिंदगी मिल गयी हो आज ये प्रोडक्शन मेरे जीवन का वो  घर बन गया जो मेरी कल्पना थी, इस कल्पना के घर को अपनी मेहनत से सजाने और ऊंचाइयों पर ले जाने का मेरा प्रयास हमेशा रहेगा।
सवाल 4-आने वाली फिल्मों और प्रोजेक्ट के बारे में बताइए?
जवाब- फिल्मी जीवन के इस दौर में फिल्म शिक्षा के भागीदार रहे,और ये मेरे जीवन की पहली फ़िल्म है जो रिलीज होने वाली है, और शिक्षा फिल्म के साथ हमारे और भी प्रोजेक्ट हैं जिन्हें बहुत ही जल्द पर्दे पर दर्शाने का प्रयास किया जा रहा है ,फिल्म शिक्षा के बाद लैपटॉप और सिपाही जैसे बड़े प्रोजेक्ट में मैं काम कर रहा हूँ,मेरी फ़िल्म परवेज मुसर्रफ और बेधड़क इश्क़  जल्द रिलीज होने वाली हैं।
 
सवाल  5- आप ए एम बी फ़िल्म प्रोडक्शन हाउस के डायरेक्टर अंश कश्यप के बारे में कुछ बताएंगे ?
जवाब- हम अंश कश्यप  के बारे में बताना चाहते हैं उनकी एक खासियत है जब कोई कलाकार कई बार में भी सीन नहीं निकाल पाता तो हंसकर तालियों से स्वागत करते हैं और कहते हैं दोबारा इससे अच्छा करोगे ।बस यही बात दिल को घर कर जाती है  और कलाकार से प्यार से काम निकालने में अंश जी को महारत हासिल है ।
 
सवाल 6. फिल्म शिक्षा में आप की भूमिका क्या है ?
 जवाब-फिल्म शिक्षा में हमने एक ऐसे भाई का किरदार  निभाया है जो अपनी एकलौती बहन की खुशी के लिए सब कुछ दाँव पर लगा देता है ,मेरी बहन भी फ़िल्म में  दहेज को लेकर मुंहतोड़ जवाब देती है और शादी से इंकार कर देती है ,हम अपने किरदार से बहुत खुश हैं।
सवाल 7 फ़िल्म शिक्षा में आपका चयन कैसे हुआ  ?
 जवाब-मैं ए एम बी फिल्म प्रोडक्शन हाउस ऑडिशन देने पहुंचा तो एक मेला सा लगा था ,दो हजार लोगों के ऑडिशन में मेरा चयन हुआ ।मुझे बहुत खुशी हुई जैसे मुझे जन्नत मिल गयी हो,महोबा में दिए गए ऑडिशन में 1623 लोगों के बाद मेरा नंबर था ,पांचवे दिन जब मेरा नंबर आया तो पूरी एनर्जी के साथ मैंने ऑडिशन दिया ,ऑडिशन अच्छा हुआ तो  मेरा मन खुशी से झूम उठा तब वो हुआ जो मैंने कभी  सोचा भी न था ,जब डायरेक्टर अंश जी और उनकी टीम ने मेरे ऑडिशन पर ताली बजा दी हमें अपनी किस्मत पर नाज हुआ।वो दिन मेरी जिंदगी का सबसे बड़ी खुशी का दिन था
 
सवाल 8- एक आखरी सवाल पूछना चाहते है आप फ़िल्म में क्या बनना चाहते थे हीरो या विलन
सवाल- शुरू शुरू में हर नौजवान की तरह हीरो ही बनने का सपना था, पर किस्मत को कुछ और ही मंजूर था संघर्ष करते करते जवानी निकल गयी,अब तो अच्छे पिता अच्छे भाई और नकारात्मक भूमिका   के रोल अदा करेंगे और  बाकी जो हमारे डायरेक्टर सर चाहेंगे ,हमे वो करना पड़ेगा ।
Share
upstarnews

RELATED ARTICLES